🔥 Use Code BLOG20 & Unlock 20% OFF on ALL Products. CLICK HERE!! 🔥

कंडोम कैसे पहना जाता है? | How to Wear a Condom in Hindi?

कंडोम कितनी अच्छी तरह काम करता है यह बहुत कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि आप इसे सही तरीके से इस्तेमाल करते हैं या नहीं।आइए जानते हैं कि कंडोम कैसे पहना जाता है?


1 min read
कंडोम कैसे पहना जाता है? | How to Wear a Condom in Hindi?

आज की आधुनिक दुनिया में कंडोम हमारी जिंदगी का एक हिस्सा बन गया है। बदलते समय के साथ साथ शारीरिक संबंध बनाने के कारण बहुत सी बीमारियां आम हो गई हैं इसलिए आज के समय में हर व्यक्ति सुरक्षित सेक्स करना चाहता है।

कंडोम पतले छोटे, पाउच में आते हैं जो सेक्स के दौरान आपके लिंग को ढकते हैं और वीर्य (सह) जमा करते हैं। कंडोम शुक्राणु को योनि में जाने से रोककर गर्भधारण को रोकता है, इसलिए शुक्राणु अंडे से नहीं मिल सकते। कुछ प्रकार के कंडोम एसटीडी को रोकने में भी मदद करते हैं।

आज इस लेख में कंडोम की जानकारी के बारे में जानने की कोशिश करेंगे‌ कि

-कंडोम कैसे पहना जाता है?

-कंडोम कितने असरदार होते हैं?

-कंडोम के क्या फायदे हैं?कंडोम के नुकसान क्या हैं?

कंडोम कैसे पहना जाता है? - How to Wear a Condom in Hindi?

कॉन्डोम का पैक खोलने से पहले लिखे गए निर्देशों को सावधानी से पढ़ें। कॉन्डोम का इस्तेमाल कैसे करना है, इसकी जानकारी पैक के लेबल पर दिया गया होता है।

१. कंडोम का पैक सावधानी से खोलें। पैक को हमेशा किनारों से खोलें।

२. पैक खोलने के लिए नाखूनों, अंगूठियां और दांत का इस्तेमाल न करें

३. कॉन्डोम का इस्तेमाल से पहले कॉन्डोम के अगले और पिछले हिस्से एक बार जांच लें

४. सेक्स करने के वक़्त चिकनाई बढ़ाना आवश्यक हैं जिसके लिए कंडोम आपकी सहायता कर सकता हैं। इसमें लुब्रीकेंट का उपयोग किया जाता हैं।

५. अगर आपने कॉन्डोम गलत तरफ से पहन लिया है, तो उसे दोबारा निकाल कर न पहनें। इससे गर्भधारण का जोखिम बढ़ सकता है

६. कॉन्डोम पहनने के दौरान टिप को दबा कर पेनिस पर लगाएं। फिर रिंग को ऊपर की तरफ घुमाएं। इससे कॉन्डोम खुलता जाएगा और पेनिस में फिट हो जाएगा।

७.स्‍खलन के बाद और पुरुष लिंग के मुलायम होने से पहले ही कॉन्डोम के रिम को पकड़ें और इसे सावधानीपूर्वक निकाल लें। कॉन्डोम को लिंग से हटाते समय आखरी छोर पकड़ कर ही रखें, नहीं तो वीर्य बाहर निकल सकता है।

८. एक बार इस्तेमाल किए गए कॉन्डोम का उपयोग दोबारा न करें। इस्तेमाल किए जाने के बाद इसे जानवर या बच्चों की पहुंच से भी दूर रखें।

९. संबंध बनाने के दौरान अगर कॉन्डोम फट जाता है, तो पुरुष साथी को संबंध बनाने क्रिया रोक देनी चाहिए। इसके बाद एक नए कॉन्डोम का उपयोग कर सकते हैं या गर्भ रोकने के दूसरे तरीका भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

१०. अगर फटे हुए कॉन्डोम से वीर्य महिला के योनि में प्रेवश कर जाता है, तो अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन कर सकती हैं।


कंडोम कितने असरदार होते हैं? How Effective Are Condoms in Hindi?

कंडोम कितनी अच्छी तरह काम करता है यह बहुत कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि आप इसे सही तरीके से इस्तेमाल करते हैं या नहीं।

जब ठीक से उपयोग किया जाता है, तो पुरुष कंडोम गर्भपाती ना बनने में लगभग ९८% प्रभावी होते हैं। इसका मतलब है कि एक साल में हर १०० में से २ महिलाएं जिनके पार्टनर हमेशा सही तरीके से कंडोम का इस्तेमाल करते हैं, वे गर्भवती हो जाएंगी। यह संख्या हर १०० में से १८ महिलाओं तक बढ़ जाती है, जिनके साथी हर बार सही तरीके से कंडोम का इस्तेमाल नहीं करते हैं।

महिला कंडोम का सही तरीके से उपयोग करने पर लगभग ९५% प्रभावी होते हैं। यदि आप उनका सही उपयोग नहीं करते हैं तो वे केवल ७९% समय काम करते हैं।

कंडोम इस संभावना को भी बहुत कम करता है कि एक व्यक्ति दूसरे को एसटीडी पारित करेगा, खासकर यदि आप हर बार सेक्स करते समय एक पहनते हैं। हालाँकि, सेक्स न करना ही १००% सुनिश्चित करने का एकमात्र तरीका है कि आपको कोई बीमारी नहीं होगी।


कंडोम के क्या फायदे हैं? What Are the Benefits of Condoms in Hindi?

१ . कंडोम का पहला और सबसे स्पष्ट लाभ यह है कि यह गर्भावस्था को रोकने का एक अत्यधिक प्रभावी साधन है। अगर सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए, तो ये छोटे 'रबड़' ९८% से अधिक प्रभावी होते हैं।

२. कंडोम लगभग कहीं भी बेचा जाता है! फार्मेसियों से लेकर कैंटीन तक, आप कहीं भी रबड़ प्राप्त कर सकते हैं। आपको उन्हें खरीदने के लिए किसी नुस्खे या आईडी की आवश्यकता नहीं है, और वे वास्तव में सस्ती हैं।

३.  आप गर्भावस्था या एसटीडी के बारे में चिंता किए बिना खुशी और अपने साथी पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। सुरक्षित सेक्स बेहतर सेक्स है क्योंकि यह तनाव को मूड को खत्म करने से रोकता है।

४.  यहां तक ​​कि जब आप संयोजन गोली जैसे हार्मोनल गर्भनिरोधक का उपयोग कर रहे हैं, तब भी यह आपको किसी भी यौन संचारित रोग या संक्रमण को पकड़ने से नहीं रोक सकता है। कंडोम एसटीडी को रोकने के सबसे कुशल तरीकों में से एक है क्योंकि यह एक 'अवरोध विधि' है जो किसी भी तरल पदार्थ को शरीर में मिलाने या प्रवेश करने से रोकता है जिससे एसटीडी के विकास या गर्भावस्था से बचा जा सकता है।

५. कंडोम शारीरिक रूप से आपके प्रजनन स्तर को नहीं बदलता है और न ही इसका कोई दुष्प्रभाव होता है।

६. कंडोम नई वैरायटी से सेक्सी हो सकता है

७. कंडोम का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है।

कंडोम के नुकसान क्या हैं? What Are the Disadvantages of Condoms in Hindi?

१. सेक्स के दौरान सहजता को बाधित कर सकता है

२. संवेदनशीलता कम कर सकते हैं

३. कुछ पुरुष कंडोम का उपयोग करते समय इरेक्शन को बनाए नहीं रख सकते हैं

४. कुछ पुरुष और महिलाएं लेटेक्स से एलर्जी या संवेदनशीलता विकसित कर सकते हैं (इस मामले में, पॉलीयूरेथेन कंडोम का उपयोग किया जा सकता है)

सारांश

आज हमने इस लेख के माध्यम से आप सभी को कंडोम कैसे पहना जाता है? कंडोम कितने असरदार होते हैं? कंडोम के क्या फायदे हैं?कंडोम के नुकसान क्या हैं? के बारे में जानकारी देने की कोशिश की है। हम आशा करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा। यदि इस लेख से संबंधित कोई भी प्रश्न हो तो आप कमेंट करके हमसे पूछ सकते हो।

GO TOP